ब्रेकिंग न्यूज़ 

”मैं अपने निर्वाचन क्षेत्र के सभी घरों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनना चाहती हूं’’

”मैं अपने निर्वाचन क्षेत्र के सभी घरों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनना चाहती हूं’’

वैशाली डालमिया आने वाले विधानसभा चुनाव के लिए तृणमूल कांग्रेसी की युवा, उत्साही और जीवंत उम्मीदवार हैं। जो पश्चिम बंगाल के हावड़ा जिले में बॉली विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रही हैं। अपनी कड़ी मेहनत और काम के प्रति अपनी निष्ठा के लिए पहचानी जाने वाली वैशाली डालमिया सुप्रसिद्ध व्यवसायी और आईसीसी, बीसीसीआई और एशियन क्रिकेट काउंसिल के पूर्व अध्यक्ष जगमोहन डालमिया की बेटी हैं। वैशाली डालमिया अभी तक सामाजिक क्षेत्र और पारिवारिक व्यवसाय के क्षेत्र में अपनी पहचान बनाने के लिए ही जानी जाती थीं, लेकिन अब वैशाली राजनीति के क्षेत्र में भी एक उभरता हुआ सितारा हैं। चुनाव के लिए वैशाली डालमिया की तैयारियों का जायजा लेने पहुंचे कोलकाता से उदय इंडिया के वरिष्ठ संवाददाता जॉयदीप दासगुप्ता, जिन्होंने वैशाली डालमिया से इस मुद्दे पर बातचीत की। प्रस्तुत हैं मुख्य अंश:

राजनीति में आने की प्रेरणा आपको कहां से मिली?

मैं 14 साल की उम्र से सामाजिक कार्यक्षेत्र से जुड़ी हुई हूं। वृद्धों और अनाथ बच्चों, शिक्षा और ट्रांसजेंडर के मुद्दों पर भी पिछले काफी वक्त से कार्य करती आ रहती हूं। हम ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में भी कई जागरूकता अभियान चला रहे हैं। मेरे सामाजिक कार्य का ही एक हिस्सा है अभियान उल्लास जिसमें मेरे साथ और बहुत से लोग भी जुड़े हुए हैं। इस अभियान का मुख्य मकसद है हर किसी की जिंदगी में खुशियां लाने का है। ममता बनर्जी मेरी आदर्श हैं जैसा कि वह खुद भी कई अभियान चला रही हैं, बालिकाओं, स्वास्थ्य, ग्रामीण कारीगरों और किसानों के लिए समर्पित हैं साथ ही राज्य में लघु उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए कई परियोजनाएं भी शुरू की हैं। जब सीधे तौर पर मुझे उनकी तरफ से राजनीति में जुडऩे का प्रस्ताव मिला तो मैं मना नहीं कर सकी। राजनीति में आने के बाद मैं अपने सामाजिक कार्यों को मूर्त रूप दे पाने में भी सक्ष्म हो पाऊंगी जो कि लोगों के लिए लाभदायी सिद्ध होगा।

आप मुख्यधारा की राजनीति में ही क्यों जुडऩा चाहती हैं, खेल राजनीति में क्यों नहीं?

मैं खेल निकायों से काफी पहले से जुड़ी हुई हूं। नेशनल क्रिकेट कल्ब (एनसीसी) की कार्यकारी समीति की सदस्य हूं। ये महत्वपूर्ण क्रिकेट निकायों में से एक है, जिसके पास बीसीसीआई (भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड) के उम्मीदवरों को वोट करने की शक्ति मौजूह है। मेरा निर्वाचन क्षेत्र भी खेल हस्तियों के लिए जाना जाता है, लेकिन जैसा कि मैंने बताया कि मेरा लक्ष्य सामाजिक कार्य और लोगों के लिए कुछ करने की इच्छा है इसलिए मैं राजनीति की मुख्यधारा में शामिल होने के लिए राजी हो गई, क्योंकि यहां रहते हुए में सामाजिक कार्यों को मूर्तरूप दे पाने में सक्षम हो सकूंगी। इसलिए राजनीति के साथ-साथ मैं खेलों में भी रहूंगी। मैं अपने निर्वाचन क्षेत्र में खेलों को बढ़ावा देने के लिए भी कार्य कर रही हूं। हमने यहां पर खेल परिसरों, क्रिकेट अकादमियों, स्वीमिंग क्लब, खो-खो क्लब की शुरूआत की है। इस निर्वाचन क्षेत्र में महिला क्रिकेट को भी बढ़ावा देने के साथ ही कई और भी स्पोर्ट प्लान हैं।

आप एक सम्मानित परिवार से संबंधित हैं, आपके पिता जगमोहन डालमियां प्रशासनिक कौशल के लिए जाने जाते हैं। जिसकी वजह से लोगों को आपसे भी बहुत उम्मीदें हैं आप इसे कैसे देखती हैं?

निश्चित रूप से में अपने पिता की विरासत को आगे तक ले जाऊंगी। मैंने अपने पिता से बहुत से कौशल प्रशिक्षण लिये हैं। लोगों के प्रति मेरी सत्यनिष्ठता और प्रतिबद्धता को पूरा करने के लिए में हमेशा तैयार हूं।

जैसा कि आप बॉली विधानसभा सीट से उम्मीदवार हैं। इस क्षेत्र के लिए वह पांच चीजें क्या हैं जो आपके लिए प्राथमिकता पर होंगी?

मेरी पहली प्राथमिकता है लोगों को समझना कि वह मुझसे क्या चाहते हैं। मैं अपनी विधानसभा के सभी क्षेत्रों के लोगों को समझने की कोशिश कर रही हूं कि उनकी मुझसे क्या उम्मीदें हैं। मैं अपनी विधानसभा क्षेत्र के आंकड़ों का आकलन कर रही हूं उसकी हिसाब से ही मैं अपनी योजनाओं को कार्यन्वित कर पाऊंगी। मेरे कार्य की योजनाएं बन चुकी हैं और मैं उसे प्रभावित तरीके से कार्यन्वित भी करूंगी।

मैं अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचने की कोशिश कर रही हूं, ताकि उनकी सभी समस्याओं को समझ सकूं, क्योंकि तभी मैं उनका हल निकाल पाऊंगी। सबसे पहले मैं अपने निर्वाचन क्षेत्र के सभी घरों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनना चाहती हूं, ताकि मैं उनकी समस्याओं को ठीक से समझ सकूं।

10-04-201610-04-2016

अब आप पूरी तरह से सार्वजनिक जीवन में उतर आईं हैं, क्या राजनीति से पहले और बाद के जीवन में कुछ अंतर नजर आता है?

मैंने 7 साल की उम्र से ही अपने पिता के साथ देश दुनिया का भ्रमण शुरू कर दिया था तो सार्वजनिक जीवन मेरे लिए नया नहीं हैं मैं बचपन से ही इससे जुड़ी हुई हूं।

व्यवसाय क्षेत्र से आपने राजनीति की ओर रूख किया है। आपका एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में प्रवेश करने का जो अनुभव है वह कैसे आपके लिए भविष्य में उपयोगी सिद्ध हो सकता है?

मैं 20 सालों से भी अधिक समय से व्यवसाय क्षेत्र से जुड़ी हुई हूं। मार्केटिंग, प्रशासन और बिक्री के बाद दी जाने वाली सेवाएं मेरे व्यवसाय के ऐजेंडे के तीन मुख्य घटक रहे हैं। जैसे कि मैं अपने पारिवारिक व्यावसाय में भी तीन घटकों के लिए जिम्मेदार हूं। कोलकाता के निकट बांटला में अपने चमड़े के व्यवसायक के प्रमोशन और मार्केटिंग से लेकर बिक्री और प्रशासन से संबंधित सभी कार्यों के लिए जिम्मेदार रही हूं।

मुझे विश्वास है कि मेरे व्यवसाय का अनुभव मेरे लिए राजनीति क्षेत्र में भी सहयोगी साबित होगा। मैं अपने निर्वाचन क्षेत्र को दुनिया के बड़े बाजार के रूप में देखना चाहती हूं, मैं चाहती हूं कि बड़े व्यापारिक घराने और निवेशकर्ता मेरे निर्वाचन क्षेत्र में अपने काम को बढ़ावा दें। प्रशासन इस क्षेत्र में कई नई योजनाओं को शामिल कर रहा है और लंबित परियोजनाओं को निष्पादित करने की कोशिश कर रहा है साथ ही इस निर्वाचन क्षेत्र के लोगों की समस्याओं को समझा जा रहा है या नहीं इस जानकारी को हांसिल करने के लिए अलग से तंत्र स्थापित किया जायेगा। जरूरत पडऩे पर वक्त के साथ इसमें बदलाव भी कियें जाएंगे।

आप अपने कार्य के प्रति बहुत मेहनती और समर्पित रहती हैं, चुनाव के दौरान भी आप उतनी ही लगन से काम कर रही हैं?

हां बिल्कुल, मैं प्रतिदिन सुबह 6 बजे उठकर जाती हूं और देर रात 12 बजे तक अपने काम के प्रति समर्पित रहती हूं। मैं सिर्फ 6 घंटे की ही नींद लेती हूं एक दिन में ताकि अपने काम को ठीक से निपटा सकूं। राजनीति में आने के बाद भी मैं अपने काम के प्रति इतनी ही निष्ठावान और ईमानदार रहूंगी।

मैं अपने बेटे की देखरेख करने के लिए, उसकी पढ़ाई-लिखाई और उसकी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए सिंगल मदर हूं। अपने गृह कार्यों को पूरा करके ऑफिस जाना मेरी नियमित दिनचार्य है। मेरे परिवार में मेरी मां, मेरा बेटा, मेरा भाई और उसकी पत्नी शामिल हैं। मेरे पिता हमेशा ही हमारे साथ होते हैं। ममता दीदी भी हमारे परिवार के सदस्य जैसी ही हैं। जब राजनीति से जुडऩे का मौका मुझे मिला तो मैंने हां कर दी। मेरे राजनीति से जुडऩे के फैसले पर मेरी मां और परिवार के अन्य सदस्यों ने मेरा सहयोग किया। मेरे परिवार में सभी को इस बात पर पूरा भरोसा है कि ममता दीदी के साथ जुड़ कर मुझे समाज के लिए कुछ अच्छा करने का मौका मिलेगा। चुनाव की घोषणा हो जाने के बाद तो हर दिन ही मेहनत से भरा है हर रोज चुनाव अभियान करना और घर-घर जा कर लोगों से मिलना, ताकि सीधे तौर पर मैं लोगों से मिल कर उन्हें समझ सकूं। मैं हर रोज समाज के सभी वर्गों के लोगों से मिलती हूं ताकि हम एक-दूसरे को समझ सकें।

आप युवाओं का जीवंत विचारों के साथ प्रतिनिधित्व करती हैं। उन शिक्षित और समझदार युवओं के लिए आपकी क्या सलाह है जो राजनीति में शामिल होना चाहते हैं?

हर व्यक्ति जो राजनीति में शामिल होना चाहता है उनके लिए मेरी सलाह है कि सबसे पहले खुद को स्थिर करे। राजनीति अपनी शक्ति का प्रदर्शन करने का मंच नहीं है, बल्कि लोगों की सेवा करने के लिए हम राजनीति से जुड़ते हैं। राजनीति में अच्छे काम को अंजाम देने के लिए जुडऩा चाहिए न कि अपनी राजनीति करने के लिए। आपके निर्वाचन क्षेत्र के लोग आपके बच्चों की तरह हैं जिनकी भलाई के लिए सोचना और कुछ करना हमारा पहला कर्तव्य होना चाहिए। अगर आप खुद से पहले दूसरे लोगों के बारे में सोचते हैं तो  आपका राजनीति में स्वागत है।

tkstour.comдетектор лжи украина

Leave a Reply

Your email address will not be published.