ब्रेकिंग न्यूज़ 

चिटफंड, कास्टिंग काउच और भ्रष्टाचार ऑलीवुड कनेक्शन

चिटफंड, कास्टिंग काउच और भ्रष्टाचार  ऑलीवुड कनेक्शन

ऑलीवुड शब्द ओडिशा और हॉलीवुड का मिश्रण है। इन दिनों ऑलीवुड अपने अभिनेता और अभिनेत्रियों के कथित चिटफंड घोटाले में शामिल होने के कारण चर्चा में है। ऑलीवुड प्रसिद्ध हास्य अभिनेता से नेता बने तत्वप्रकाश सत्पथी के कथित कास्टिंग काउच कांड से भी सुर्खियों में है। तत्वप्रकाश सत्पथी अपने एक पात्र पप्पू पोम-पोम के नाम से मशहूर हैं। कास्टिंग काउच जैसा आरोप इससे पहले ओडिशा के मनोरंजन उद्योग में नहीं सुना गया था। ऑलीवुड की अभिनेत्रियों ने कास्टिंग काउच आरोप के कारण आज पप्पू कटघरे में खड़े नजर आ रहे हैं।

पप्पू पोम-पोम पर नौंवी कक्षा में पढऩे वाली एक छात्रा ने यौन शोषण और धमकाने का आरोप लगाया है। उसका कहना है कि पप्पू से उसकी मुलाकात पहली बार उसके स्कूल में हुई और उसने उसे फिल्मों में भूमिका देने का प्रलोभन दिया था। फिर पप्पू ने लड़की का फोन नंबर ले लिया और लगातार उससे संपर्क करता रहा। कुछ दिन बाद पप्पू ने इस लड़की के साथ अपने वाहन में कथित तौर पर दुव्र्यवहार किया और वादे के मुताबिक उसे फिल्मों में काम भी नहीं दिया।

यही नहीं, ऑलीवुड की एक अभिनेत्री ने भी कुछ निर्देशकों और प्रोड्यूसरों पर आरोप लगाया है कि वे फिल्मों में काम देने के नाम पर उसका यौन शोषण करते रहे हैं। अभिनेत्री का कहना है, ”तीन साल पहले मैंने टेलीविजन इंडस्ट्री में कदम रखा था, तो मुझे भी इस तकलीफ से गुजरना पड़ा था। कुछ निर्देशक और निर्माता मुझे फिल्मों में अच्छे रोल देने के नाम पर यौन संबंधों के लिये उकसाते थे, लेकिन मेरे विरोध करने पर मेरे साथ दुव्र्यवहार किया गया। उन लोगों ने मुझे चेताया कि अगर मैंने उनके कहे मुताबिक नहीं किया तो वे ऑलीवुड और टेलीविजन इंडस्ट्री में मेरा भविष्य बर्बाद कर देंगे। लेकिन मैं उनके दबाब में नहीं आई और न ही कभी उनके साथ फिल्मों में काम किया।’’ जब अभिनेत्री से पूछा गया कि आखिर इतने दिनों के बाद उसने इसकी शिकायत पुलिस में क्यों की? उसका जवाब था कि ”मुझमें उस वक्त इतना साहस नहीं था, क्योंकि मैं गहरे सदमें में थी और बहुत डर गई थी। लेकिन लंबे समय के बाद मैं सहास जुटा कर पुलिस स्टेशन आ पाई हूं। मेरी तरह इस यातना से गुजरने वाली अन्य अभिनेत्रियों से भी मैंने गुजारीश की है कि वे इस तरह के मामले में आगे आ कर इन निर्देशकों और निर्माताओं के खिलाफ आवाज उठायें।’’

इसके अलावा पप्पू की बढ़ती लोकप्रियता को भुनाने की कोशिश कुछ बिल्डर और चिट फंड कंपनियों ने भी की, ताकि वे ज्यादा से ज्यादा लाभ कमा सकें। ऑस्कर ग्रुप ऑफ कंपनी के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक प्रभास राउत ने चिटफंड कंपनी के जरिये लाखों लोगों से धोखा किया। ऑलीवुड के स्टार लोगों को ऑस्कर ग्रुप में अपने पैसे जमा करने के लिये प्रेरित करते थे। ऑस्कर ग्रुप की चिटफंड कंपनी ने अक्टूबर 2009 में सूरत में एक भव्य समारोह का आयोजन किया था, इस समारोह में ऑलीवुड के जाने-माने सितारे कंपनी के लिये लोगों को प्रेरित करते नजर आये। इस कार्यक्रम में ऑलीवुड अभिनेता उत्तम मोहंती और पप्पू पोम-पोम समेत अभिनेत्री जीना और लीपी भी नजर आईं। इन सभी ऑलीवुड सितारों को कार्यक्रम में प्रभास राउत ने ही बुलाया था। उस दौरान अपने संबोधन में उत्तम मोहंती ने कहा कि यह सूरत में उनका तीसरा दौरा है, और अगर सूरत के लोग उनका साथ देंगे तो वे बार-बार यहां आना चाहेंगे। ऑस्कर ग्रुप के बारे में बताते हुए मोहंती ने कहा कि ऑस्कर शब्द पांच अक्षरों के मेल से बना है और इस ग्रुप की गतिविधियां भी पांच क्षेत्रों ऑस्कर बैंक, ऑस्कर मीडिया, ऑस्कर शिक्षा, ऑस्कर फिल्म, ऑस्कर रियल स्टेट में सक्रिय हैं। अपने संबोधन में मोहंती ने आगे कहा कि ऑस्कर ग्रुप एक  ओडिया फिल्म बनाने जा रहा है जिसमें उनके बेटे बाबूशन नायक होंगे। इसके अलावा फिल्म में खुद मोहंती और उनकी पत्नी अपराजिता भी अभिनय करेंगी। साथ ही मोहंती ने कहा कि सूरत के लोगों के सहयोग और समर्थन से ऑस्कर ग्रुप अपने कारोबार का विस्तार करने में सक्षम होगा, इसके लिये कंपनी को आपके सहयोग  और शुभकामनाओं की जरूरत है। इस दौरान ऑस्कर ग्रुप की प्रशंसा करते हुए अभिनेत्री लीपी ने कहा, ”मैं चाहे कंपनी की कितनी भी प्रशंसा कर लूं, वह कम ही है। मेरे पास कंपनी की प्रशंसा के लिये शब्द नहीं हैं।’’ अभिनेत्री ने कार्यक्रम में मौजूद मेहमानों से आग्रह किया कि वे कार्यक्रम का पूरा आनंद उठायें और उनकी इच्छा है कि उन्हें सूरत आने का मौका फिर मिलेगा तो वे जरूर आयेंगी। अंत में उन्होंने कहा कि हम सब ऑस्कर के लिये एक ही बात कह सकते हैं ”ऑस्कर जिंदाबाद।’’ इसके बाद पप्पू पोम-पोम ने दोबारा अपने संबोधन में कहा कि ऑस्कर ग्रुप ओडिया फिल्म ‘तो आंखीरे मूं’ बना रही है, जिसकी 60 प्रतिशत शूटिंग पूरी हो चुकी है। ऑस्कर ग्रुप ने अपना काम शुरू कर दिया है अब आप लोगों के सद्भाव और प्रेम की जरूरत है। आप लोगों का साथ मिलेगा तो कंपनी तेजी से आगे बढ़ेगी। मोहंती ने ऑस्कर ग्रुप और उसके चेयरमैन की प्रशंसा में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी। ऑलीवुड सितारों और ऑस्कर ग्रुप की इस निकटता से साफ झलकता है कि इस चिटफंड घोटाले की जड़ें काफी गहरे तक हैं।

दूसरी प्रसिद्ध चिटफंड कंपनी मां तारिणी स्टेट प्राइवेट लिमिटेड, फिल्म निर्माता निरंजन राणा की है जबकि ऑस्कर ग्रुप प्रभास  राउत के द्वारा चलाई जाती है। इन दोनों कंपनियों ने लोगों को प्लॉट और घर देने के नाम पर करोड़ों रुपये लूट लिये और इस राशि का इस्तेमाल इन लोगों ने ऑलीवुड इंडस्ट्री में किया। ये दोनों ही फिल्म निर्माता अपनी कंपनियों की लोकप्रियता बढ़ाने के लिये ऑलीवुड के अभिनेता और अभिनेत्रियों का इस्तेमाल करते हैं, ताकि जमाकर्ताओं को अधिक-से-अधिक आकर्षित किया जा सके।

इसके  साथ ही सत्तारूढ़ बीजू जनता दल के विधायक और सांसदों समेत फिल्म अभिनेता से नेता बने लोगों को इन दागी कंपनियों से काफी लाभ मिला है। पप्पू पोम-पोम के अलावा बहरामपुर के लोकसभा सांसद सिद्धांत महापात्रा, राज्यसभा सांसद अनुभव मोहंती, विधायक आकाश दासनायक ने भी ऑस्कर ग्रुप के चेयरमैन प्रभास द्वारा निर्मात फिल्मों में अभिनय किया है। अभिनेता चिटफंड कंपनियों के लिये आम जनता और छोटे निवेशकों को फर्म में निवेश करने के लिये प्रेरित करते थे। राउत ने इन निवेशकों की राशि को लूट लिया है। चिटफंड कंपनियों के साथ इन नेताओं की निकटता से पता चलता है कि बीजू जनता दल फर्म को सक्रिय रूप से बढ़ावा दे रही है। भाजपा के प्रदेश उपाध्याक्ष समीर मोहंती पूछते हैं कि अगर कोई प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से चोर हो और उसके साथ कोई जुड़ा हो तो क्या वह भी चोर नहीं कहलायेगा? सीबीआई पहले ही चिटफंड घोटाला मामले में बीजू जनता दल के लोकसभा सांसद रामचंद्र हंसदा और पूर्व विधायक को गिरफ्तार कर चुकी है।

ओडिशा के कांग्रेस प्रमुख प्रसाद हरिचंदन का कहना है, ”मुख्यमंत्री नवीन पटनायक समेत बीजू जनता दल के सभी नेता पूरी तरह इस भ्रष्टाचार में संलिप्त हैं। सीबीआई पहले ही इनके दरवाजे पर दस्तक दे चुकी है, लेकिन वह कैसे और किसके खिलाफ कार्रवाई करे? सीबीआई ने कोई कार्रवाई नहीं की है क्योंकि नवीन पटनायक की केन्द्र की भाजपा सरकार के साथ पहले ही डील हो चुकी है। जब नवीन पटनायक खुद ही इस भ्रष्टाचार में संलिप्त हैं तो वे अपनी पार्टी के सदस्यों के खिलाफ कैसे कोई कार्रवाई कर सकते हैं?’’

राज्य सरकार को उन निवेशकों का पैसा लौटाने की एक पहल करनी चाहिए जिनका पैसा चिटफंड कंपनियों में लगाने की वजह से डूब गया है। लेकिन मुख्यमंत्री नवीन पटनायक चिटफंड विवाद पर चुप्पी साध कर बैठ गये हैं। बीजू जनता दल का आरोप है कि यह पार्टी को बदनाम करने की एक राजनीतिक साजिश है। सत्तारूढ़ पार्टी और विरोधी दल के एक-दूसरे पर दोषारोपण के इस खेल में अगर किसी का नुकसान हो रहा है तो वह गरीब लोग हैं जिनका पैसा डूबा है। बहुत से ऑलीवुड सितारे ओडिशा के लोगों के लिये रोल मॉडल हैं, उन्हें जनता के सामने एक जिम्मेदार नागरिक की तरह पेश आना चाहिए, ताकि उनका भरोसा इन पर बना रहे।

संजय कुमार बिसोयी

laptop acerбиография апостола мунтяна

Leave a Reply

Your email address will not be published.