ब्रेकिंग न्यूज़ 

item-thumbnail

भगवान रामचंद्र के जीवन में पशु-पक्षियों की भूमिका

0 May 10, 2021

भगवान रामचंद्र जी के व्यक्तित्व का वर्णन मानवीय अनुभीतियों, आदर्शों और सर्वगुण संपन्न व्यक्ति के रूप में किया गया है। भगवान राम अवतार में उनके शक्ति औ...

item-thumbnail

संयम एवं अहिंसा का प्रयोग है कारगर

0 May 27, 2020

समूह और समुदाय में शांति रहे, सौहार्द रहे, आपसी मेल-मिलाप रहे, यह जरूरी है। लेकिन समाज में अशांति ज्यादा है, तनाव ज्यादा है, संघर्ष ज्यादा है, डर ज्या...

item-thumbnail

भारतीय संस्कृति में ज्योतिष का महत्व

0 May 4, 2017

ज्योतिष भारतीय संस्कृति का मूल है। याज्ञवल्स्य   स्मृति के अनुसार चार वेद (ऋग्वेकद, यजुर्वेद, सामवेद तथा अथर्ववेद) छ: वेदाड्.ग (शिक्षा, कल्प छन्द, निर...

item-thumbnail

आज भी प्रासंगिक है अभिनवगुप्त

0 October 21, 2016

प्रश्न उठता है कि हजार वर्ष बीत जाने के बाद अचानक अभिनवगुप्त का राष्ट्रीय स्तर पर स्मरण करने का उद्देश्य क्या है। महत्वपूर्ण ऐतिहासिक तथ्य हानें के अत...

item-thumbnail

महाविनाश से महानिर्माण की ओर

0 April 25, 2015

समय-समय पर रह-रह कर सांप्रदायिक हिंसा और आतंकवादी घटनाएं ऐसा वीभत्स एवं तांडव नृत्य करती रही हैं, जिससे संपूर्ण मानवता प्रकंपित हो जाती है। इन दिनों क...

item-thumbnail

धनतेरस पर दक्षिण दिशा में लगाते हैं तेल का दीपक

0 November 16, 2013

धनतेरस को यमदीपदान भी कहा जाता है। मृत्यु और दु:खों को दूर रखने के लिए यम देवता की प्रार्थना की जाती है जिसके लिए दीपों को सारी रात जलने दिया जाता है।...