ब्रेकिंग न्यूज़ 

item-thumbnail

किस करवट बैठेगा गुजरात का चुनावी ऊंट

0 November 25, 2022

अरब सागर की लहरें वैसी ही उठ रही हैं, जैसी सामान्य दिनों में उठती हैं। गुजरात के किनारे से रोजाना की तरह अपने रूटीन में टकरा रही हैं। सवाल यह है कि क्...

item-thumbnail

शहरी और ग्रामीण इलाकों में आप और भाजपा की टक्कर

0 November 25, 2022

गुजरात चुनाव को देखते ही बहुत पहले से कार्पेट बॉम्बार्डिंग कैम्पेन करने वाले आप की नजर गांधीनगर की गद्दी हासिल करने से ज्यादा राष्ट्रीय पार्टी के सिम्...

item-thumbnail

क्या गुजरात के अभेद्य दुर्ग में होगा त्रिकोणीय मुकाबला

0 November 25, 2022

गुजरात में विधानसभा चुनावों की घोषणा हो गई है। एक और पांच दिसंबर को दो चरणों में मतदान होगा और गुजरात एवं हिमाचल प्रदेश के चुनाव परिणाम एक साथ आठ दिसं...

item-thumbnail

गुजरात के लिए भाजपा की चुनावी रणनीति

0 November 25, 2022

गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा ने 182 सीटों में प्रत्याशी घोषित कर दिए हैं और नामांकन का काम लगभग पूरा हो चुका है।  अब चुनावी रण जीतने के लिए प्रध...

item-thumbnail

गुजरात चुनाव: 2024 का सेमीफाइनल

0 November 25, 2022

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गुजरात से दिल्ली पहुंचने के बाद 2017 के बाद यह गुजरात का दूसरा ऐसा विधानसभा चुनाव है जिसमें मोदी सीधे भाजपा का नेतृत्व नह...

item-thumbnail

गुजरात: भारतीय राजनीति का एक अलग स्थान

0 November 25, 2022

भारतीय राजनीति में गुजरात का एक अलग स्थान है क्योंकि इसने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के वर्तमान राजनीतिक दर्शन के लिए लॉ...

item-thumbnail

संघ एवं शिक्षा : एक वैचारिक विमर्श

0 November 7, 2022

पराधीन भारत यद्यपि 15 अगस्त, 1947 को स्वतंत्र हुआ किन्तु ‘देशानुकूल तंत्र’ विकसित करने के प्रयास में अत्यधिक विलम्ब हुआ। राष्ट्र भक्तों को इसकी आवश्यक...

item-thumbnail

PM मोदी के कार्यों पर संघ की वैचारिक छाप : भारत के स्वर्णिम भविष्य की आहट सुन रहा विश्व

0 November 7, 2022

साल 2002 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की कुरुक्षेत्र में आयोजित प्रतिनिधि सभा ने जम्मू-कश्मीर राज्य के पुनर्गठन के सन्दर्भ में एक महत्वपूर्ण प्रस्ताव प...

item-thumbnail

तुष्टीकरण और इस्लामीकरण के रास्ते में खड़ी संघ की चट्टान

0 November 7, 2022

जिस आजाद भारत का सपना महात्मा गांधी ने देखा था, वो देश की आजादी के बाद बराबर टूटता चला गया। राष्ट्र निर्माण की धुरी गांव, गरीब, किसान की ओर सरकारों ने...

item-thumbnail

संघ और सरकार

0 November 7, 2022

भारत इन दिनों जिस दौर में पहुंच गया है, उसमें एक शब्द बहुत गहरे से प्रचलित हुआ है। अंग्रेजी का यह शब्द है– नैरेटिव। आज के दौर की चाहे सामाजिक स्तर की ...

1 2 3 88