ब्रेकिंग न्यूज़ 

item-thumbnail

देश की समस्याओं का सोल्यूशन्स हैं हमारे नौजवान

0 September 2, 2022

इस बार 15 अगस्त को मैंने लाल किले से कहा है कि भारत में कितनी बड़ी एस्पीरेशनल  सोसाइटी आज विकसित हो रही है, विस्तार हो रहा है। इस अमृतकाल में ये एस्पी...

item-thumbnail

अखंड भारत सिंध के बिना हिंद अधूरा

0 September 2, 2022

जैसा कि सर्वविदित है कि प्राचीन भारत का इतिहास बहुत वैभवशाली रहा है। भारत माता को सही मायने में ‘सोने की चिडिय़ा’ कहा जाता था एवं इस संदर्भ में भारत की...

item-thumbnail

नरेन्द्र मोदी का आत्मनिर्भर भारत : दीनदयाल उपाध्याय की आर्थिक दृष्टि

0 April 19, 2022

क्या नरेन्द्र्र मोदी पंडित दीनदयाल उपाध्याय के आर्थिक दृष्टिकोण ‘एकात्म मानव दर्शन’को अपने आत्मानिर्भर भारत के माध्यम से क्रियान्वित कर रहे हैं? उपरोक...

item-thumbnail

हिन्दू होने का आरोप लगा कर सुनील जाखड़ किए पंजाब की राजनीति से बाहर

0 February 14, 2022

यह सुविदित ही है कि लगभग चार महीना पहले जब पंजाब में सोनिया कांग्रेस अपने ही मुख्यमंत्री को अपदस्थ करने के षड्यंत्र में लगी हुई थी तो नया मुख्यमंत्री ...

item-thumbnail

कांग्रेस को ले डूबी वंशवाद की राजनीति

0 February 1, 2022

वंशवाद राजनीति के दो पहलू हैं एक जिसमें लोकतंत्र की स्थापना से पहले राजाशाही में सत्ता का स्थानांतरण पिता से अपनी संतान को कर दिया जाता था जो लोकतंत्र...

item-thumbnail

हिन्दू देह है और हिन्दुत्व उसकी आत्मा

0 January 4, 2022

आजकल हिन्दू और हिन्दुत्व में अंतर की चर्चा जोरों पर है। पिछले दिनों एक बड़ी राजनीतिक पार्टी के बड़े नेता ने राजस्थान की एक सभा में हिन्दू और हिन्दुत्व...

item-thumbnail

अखंड होना भारत की नियति है

0 December 24, 2021

‘अखंड भारत’ की सोच और संकल्पना एक बार पुन: सामाजिक-सार्वजनिक विमर्श के केंद्र में है। 25 नवंबर को ‘विभाजनकालीन भारत के साक्षी’ पुस्तक के विमोचन के अवस...

item-thumbnail

भारतीय विद्यार्थियों की विदेश में शिक्षा का मोह : एक चिंता का विषय

0 November 2, 2021

एक समय था जब सम्पूर्ण विश्व से लोग उच्च शिक्षा के लिए भारतवर्ष आते थे। भारत ज्ञान-विज्ञान का वैश्विक केंद्र था। भारत प्राचीन काल में विश्व में उच्च शि...

item-thumbnail

अनुभव एवं संघर्षों की आंच में तपकर निखरा

0 September 30, 2021

राजनीति भी व्यापक मानवीय संस्कृति का एक प्रमुख आयाम है। भारतीय जनमानस के लिए राजनीति कभी अस्पृश्य या अरुचिकर नहीं रही। स्वतंत्रता-आंदोलन के दौर से ही ...

item-thumbnail

स्वाधीनता की 75वीं वर्षगांठ और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ : संगठित समाज का साकार होता सपना

0 August 17, 2021

देश की स्वाधीनता के 75 वर्ष पूरे हो रहे हैं। स्वाधीनता के इन 75 वर्षों में देश में असंख्य परिवर्तन हुए हैं। बहुत सारे परिवर्तन यदि सकारात्मक हैं तो बह...

1 2 3 8