ब्रेकिंग न्यूज़ 

item-thumbnail

जेंडर गैप इंडेक्स और हम

0 August 2, 2022

हाल ही में वल्र्ड इकनोमिक फोरम की ग्लोबल जेंडर गैप 2022 रिपोर्ट आई है जिसमें भारत 146 देशों की सूची में 135वें स्थान पर है। यानी लैंगिक समानता के मुद्...

item-thumbnail

मोदी के नेतृत्व में वास्तविक बदलाव की ओर अग्रसर भारत

0 June 23, 2022

2014 के लोकसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी की अभूतपूर्व विजय और नरेन्द्र मोदी जी के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण के साथ ही भारत तमाम समस्याओं ...

item-thumbnail

‘ऑपरेशन गंगा’ एक जटिल मानवीय ऑपरेशन की दास्तान

0 May 4, 2022

हाल ही में सकुशल समाप्त हुए ऑपरेशन गंगा को भविष्य में एक ऐसी घटना के रुप में देखा जायेगा जिसमें हमारी सरकार ने मानवीय, जनतांत्रिक, कूटनीतिक और साहस के...

item-thumbnail

बौद्धिक बेईमानी और राष्ट्र की पीड़ा

0 April 20, 2022

पिछले कुछ दशकों से, ‘बौद्धिक बेईमानी’ की विशिष्ट मानसिकता बढ़ रही है।  कई लोगों की विचार प्रक्रिया चरित्र विकास के बजाय व्यक्तित्व/छवि बनाने की होती ह...

item-thumbnail

तम्बाकू उत्पाद पर चित्रमय चेतावनी से कम होता है तम्बाकू सेवन

0 April 5, 2022

सिर्फ दो तरह से तम्बाकू सेवन कम हो सकता है। नए बच्चे-युवा तम्बाकू सेवन शुरू न करें, और जो लोग तम्बाकू व्यसनी हैं वह नशा-मुक्त हों। तम्बाकू उत्पाद के प...

item-thumbnail

सेरोगेसी का मायाजाल

0 March 24, 2022

सरोगेसी के जरिए प्रियंका चोपड़ा मां बनी हैं। उनके मां बनने के साथ ही सरोगेसी पर एक नई चर्चा आरंभ हो गई है, क्योंकि लेखिका तस्लीमा नसरीन ने इस पर कुछ प...

item-thumbnail

लोकतंत्र दागी राजनीति से कब मुक्त होगा?

0 March 7, 2022

आजादी का अमृत महोत्सव मनाते हुए भारतीय राजनीतिक की शुचिता, चारित्रिक उज्ज्वलता और स्वच्छता पर लगातार खतरा मंडराना गंभीर चिन्ता का विषय है। स्वतंत्र भा...

item-thumbnail

लोकतंत्र में सत्ता त्याग और सेवा का दुर्गम पथ

0 February 1, 2022

पश्चिमी देशों की तथाकथित आधुनिकता ने बीसवीं शताब्दी में सारे विश्व को दूर तक प्रभावित किया और समाज की शासन-व्यवस्था के लिए राजतंत्र के स्थान पर लोकतंत...

item-thumbnail

भारत के चाय बागानों में महिलाओं की दयनीय स्थिति

0 November 26, 2021

भारत विश्व में चाय का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है। वर्ष 2014 में भारत ने 1.2 मिलियन मीट्रिक टन चाय का उत्पादन किया था। देश में 563.98 हजार हेक्टेयर में...

item-thumbnail

पूजा लक्ष्मी की ही क्यों, गृहलक्ष्मी की क्यों नहीं?

0 October 17, 2021

विचित्र विरोधाभास है स्त्री की स्थिति में इस देश में। एक ओर शास्त्रों में श्री, धी और शक्ति की प्रतीक लक्ष्मी, सरस्वती और दुर्गा के रूप में पूजित है, ...

1 2