ब्रेकिंग न्यूज़ 

item-thumbnail

डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की राजनीतिक पृष्ठभूमि और विचार यात्रा

0 July 5, 2021

सन् 1935 में ब्रिटिश संसद ने गवर्नमेंट ऑफ इंडिया एक्ट पारित किया, जिसके अंतर्गत भारतीयों को ज्यादा प्रतिनिधित्व मिलना था तथा हर प्रांत में एक चुनी हुई...

item-thumbnail

केरल में सामाजिक संस्कृति और लोकतंत्र की हत्या

0 October 21, 2016

आज के युग में राजनीति और लोकतंत्र एक-दूसरे के पर्यायवाची बन चुके हैं। राजतंत्र के साथ-साथ हर प्रकार के अत्याचारी और हिंसक राजनीतिक गतिविधियों का युग अ...

item-thumbnail

सेवा परम धर्म

0 April 18, 2015

पूरे देश में सेवा के क्षेत्र में काम करने वाली कई प्रकार की संस्थाएं हैं। व्यक्तिगत रूप से भी हमारे कई बंधु सेवा के क्षेत्र में कार्यरत हैं। समाज में ...

item-thumbnail

”केवल सत्ता व राजनीति के भरोसे देश के भविष्य को छोड़ देने से काम नहीं चलेगा’’–मोहन भागवत

0 October 25, 2014

एक वर्ष के पश्चात् फिर से हम सब विजयादशमी के पुण्यपर्व पर यहॉं एकत्रित हैं,परंतु इस वर्ष का वातावरण भिन्न है यह अनुभव हम सभी को होता है। भारतीय वैज्ञा...

item-thumbnail

जिम्मेदार सरकार बना सकती है भारत को सुपरपॉवर

0 February 16, 2014

योग्यता, क्षमता, प्रतिभा जिसकी जितनी हो, उसके अनुसार उसे रोजगार के अवसर मिलने चाहिएं। आज गांवों से शहरों की ओर पलायन हो रहा है। युवाओं को गांव से शहर ...

item-thumbnail

वोटबैंक के लिए देशहित से खिलवाड़

0 October 12, 2013

दो साल बाद राष्ट्रीय एकता परिषद की बैठक बुलाई गई तो आतंकवाद और माओवादी हिंसा जैसे गंभीर मुद्दे एजेंडे से गायब थे। मुजफ्फरनगर और किश्तवाड़ के दंगों पर ...

item-thumbnail

हिन्दुत्व हमारी ध्येय साधना

0 August 17, 2013

विचार का प्रथम साक्षात्कार और इस विचार का प्रत्यक्ष जीवन में अभिव्यक्तिरूप विकास संयोग से हमारे देश में हुआ, समुद्रवेष्ठित, हिमालय के किरीट से मण्डित ...

item-thumbnail

चुनाव का साम्प्रदायिकरण कर रही है कांग्रेस

0 August 10, 2013

कांगे्रस पार्टी के एक प्रवक्ता ने ‘इंडियन मुजाहिद्दीन’ की उत्पत्ति और उसके अस्तित्व को अभूतपूर्व तरीके से तर्कसंगत ठहराया है। इंडियन मुजाहिद्दीन...

item-thumbnail

जेल में रहें भारतीय भाषाएं अंग्रेजी का गुलाम है आजाद भारत!

0 August 10, 2013

अपने देश में नागिरक को न्याय की रक्षा करते हुए फांसी प्राप्त करने का अधिकार है, लेकिन फांसी पर लटकने से पहले अपनी भाषा में यह जानने का अधिकार नहीं है,...