ब्रेकिंग न्यूज़ 

item-thumbnail

जप ले राम-राम बनेंगे सारे काम

0 December 28, 2017

कलियुग में केवल भगवान का नाम ही परम कल्याण करने वाला है। इसको छोड़कर कल्याण प्राप्ति का और कोई सरलतम उपाय नहीं है। ‘कलियुग केवल नाम अधारा, सुमिर...

item-thumbnail

विवेक, संयम, भक्ति, साहस, सदाचार और शक्ति के ‘सार’ हनुमान

0 July 1, 2016

हनुमान ने अपना संपूर्ण जीवन दूसरों की सेवा में व्यतीत कर दिया। उन्होंने पहले सुग्रीव की और फिर राम की सेवा की। वे अपने दास्य भाव के माध्यम से भक्ति का...

item-thumbnail

मैं भी तेरी मां हूं बेटे

0 May 19, 2016

मुझको कहते गाय, दूध पिलाती, तुझे पालती, बनकर पन्ना घाय। मुझे पता है इस कलयुग में बढ़ती कितनी भूख जल विहीन खेतों पर अंकुर प्यासे जाते सूख। तू निर्दोष म...

item-thumbnail

गाय शब्द का अर्थ

0 May 3, 2016

त्वं यज्ञस्य त्वं माता सर्वदेवानां कारणम। त्वं सर्वतीर्थानां नमस्तुतेअस्तु सदानघे।। शशि सूर्यरूणा यस्या ललाटे वृषभ ध्वज:। सरस्वती च हुंकारे सर्वेनागास...

item-thumbnail

गोपालन को प्रोत्साहन ही धर्मपालन

0 April 20, 2016

भारतीय गायों के ही दूध, दही, घी आदि का सेवन करें! पंचगव्य-निर्मित दंतमंजन, साबुन इ. का उपयोग करें! उत्सवों पर गोपूजन करें। मंगलप्रसंगों पर गोदान करें!...

item-thumbnail

नित्यकर्मों के पालन से सुधरता है जीवन

0 January 1, 2016

मनुष्य अपने जीवन में बहुत से शुभ-अशुभ कर्म करते हैं। जिनमें से कुछ ऐसे कर्म हैं जो नित्य करने योग्य होते हैं। शास्त्रों के अनुसार मनुष्य को केवल वही क...

item-thumbnail

ऊँ ही परम सत्ता और सृष्टि का आधार है

0 December 3, 2015

उपनिषदों में कहा गया है कि सृष्टि के प्रारम्भ में सबसे पहली जिस ध्वनि का निर्माण हुआ वह ऊँ ही था। ओंकार ध्वनि ‘ऊँ’ को दुनिया के सभी मंत्रों का सार कहा...

item-thumbnail

देवि त्वं भक्तसुलभे

0 October 23, 2015

मां दुर्गा को उनके अन्य कई नामों के साथ भी जाना जाता है। काली, भवानी, अम्बा, जगदम्बा, शोरांवाली, पार्वती और भी सैकड़ों नामों से जाना जाता है। दुर्गा क...

1 2 3 4