ब्रेकिंग न्यूज़ 

item-thumbnail

गांधीवाला उर्फ ट्रेजेडी किंग दिलीप कुमार

0 July 20, 2021

ट्रेजेडी किंग यानी हिंदी  दुखांत फिल्मों के  बादशाह स्व. दिलीप कुमार के बारे में एक ऑडियो-वीडियो जमकर वायरल हो रहा है। इस ऑडिओ-वीडियो में दिलीप साहब क...

item-thumbnail

दलित राजनीति में रामविलास पासवान का स्थान

0 October 19, 2020

किसी व्यक्ति की महत्ता उसके जाने के बाद ही समझ आती है। भारत के वंचित-दलित-शोषित समाज से आने वाले बड़े नेता रामविलास पासवान राजनीति में निश्चित ही एक र...

item-thumbnail

श्यामसुंदरजी हिंदी के लिए ढाल बने रहे

0 January 24, 2020

प्रभात प्रकाशन के संस्थापक, श्यामसुंदरजी हिंदी प्रकाशन जगत् में ऋषि-परंपरा के व्यक्ति थे। पुस्तकें उनके लिए जीने की ललक सरीखी थीं। उन्होंने जीवन भर रा...

item-thumbnail

जेतलीजी महान, उनकी यादें भी महान

0 September 3, 2019

अरुण जेतली एक महान विचारक, अतुल्य वक्ता, श्रेष्ठतम कानून विशेषज्ञ और राजनीतिज्ञ थे। वह अनेक अन्य विधाओं के भी ज्ञातक थे। उनके जाने से भारतीय जनता पार्...

item-thumbnail

सुनेत्री थीं सुषमा

0 August 22, 2019

सुषमा स्वराज’ पुरातन नेताओं के जितनी निकट थी, उससे अधिक नूतन नेताओं के करीब भी थी। वह प्रतिभाशाली कार्यकर्ताओं की संरक्षक थी। वे सतत संगठन और सरकार के...

item-thumbnail

मनोहर पर्रिकर : संपूर्ण जीवन एक अभ्यास की प्रयोगशाला

0 April 1, 2019

गोवा के मुख्यमंत्री एवं पूर्व केन्द्रीय रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर का पैंक्रियाटिक कैंसर से एक वर्ष तक जूझने के बाद देह से विदेह हो जाना  न केवल गोवा ब...

item-thumbnail

तीन जीनियसएकसाथ विदा!

0 August 24, 2017

तीनों ही उच्च वैज्ञानिक अनुसंधान के लिए विदेश गए, लेकिन अंतत: देश सेवा के लिए लौटे। विज्ञान और प्रौद्योगिकी के जरिये देश को आधुनिक और सक्षम बनाने में ...

item-thumbnail

सुरेश शर्मा का देहावसान

0 July 13, 2017

राष्ट्रवादी चिंतनधारा के महानायक और आदर्श पुरूष सुरेश चंद्र शर्मा अब नहीं रहे। सक्रिय जीवन निभाते हुए जब वो अपने पीतमपुरा स्थित निवास स्थान पर दोपहर क...

item-thumbnail

एक युग का अंत

0 December 16, 2016

तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता का 5 नवम्बर को रात साढ़े ग्यारह  बजे दिल का दौरा पडऩे के बाद चेन्नई के अपोलो अस्पताल में निधन हो गया। उनके निधन के साथ...

item-thumbnail

आखिर मां तो मां ही होती है

0 August 12, 2016

आधुनिक सभ्यता-संस्कृति ने आज सबको अपने में ही सीमित कर दिया है। आजकल अधिकतर लोग भोग-बिलास और जिंदगी की रोजमर्रा में डूबे रहते हैं। सबके जीवन का लक्ष्य...

1 2