ब्रेकिंग न्यूज़ 

item-thumbnail

जैनेंद्र कुमार: व्यक्ति की गुम होती पहचान को उकेरने वाले उपन्यासकार

0 May 23, 2015

प्रेमचंदोत्तर उपन्यासकारों में जैनेंद्र कुमार (2 जनवरी 1905-24 दिसंबर 1988) का विशिष्ट स्थान है। जैनेंद्र कुमार के उपन्यासों में घटनाओं की संघटनात्मकत...

item-thumbnail

आग और राग का कवि: धूमिल

0 December 13, 2014

By सुरेन्द्र अग्निहोत्री जिदंगी के संघर्षों से जूझते, रोटी के लिए संघर्ष करते धूमिल ने अपने निजी अनुभवों से पाया था कि अपनी भूख के समाधान के लिए रोटी ...