ब्रेकिंग न्यूज़ 

item-thumbnail

सरोवर विज्ञान की महती आवश्यकता

0 April 20, 2022

शनै: शनै: लुप्त हो रही पनघट संस्कृति के अनेक रोचक दृष्टान्तों से हमारा लोक साहित्य हिलोरे ले रहा है। मनुष्य जन्म से मृत्यु तक पानी का उपयोग करता है। ज...

item-thumbnail

बावड़ी : कुछ अनछुए पहलू

0 March 4, 2021

सदियों से बावड़ी हमारी सनातन जल प्रदाय व्यवस्था का अभिन्न अंग रही है। अलग-अलग इलाकों में बावडिय़ों को अलग-अलग नामों यथा सीढ़ीदार कुआं या वाउली या बावड़...

item-thumbnail

मंदार : आस्था का पर्वत

0 February 17, 2021

बांका (बिहार) के बौंसी में स्थित मंदार पर्वत आज भी भारतीय संस्कृति और सभ्यता की जीवंत परम्परा के साक्षी के रूप में अविचल खड़ा है। यह न केवल धार्मिक वि...

item-thumbnail

समता एवं संतुलन की साधना है सामयिक

0 December 18, 2020

सुविधा और सुख का संबंध नहीं है। पदार्थ की प्रचुरता है, किन्तु सुख नहीं है। पदार्थ की अल्पता है, किन्तु दुख नहीं है। सुखी वह है, जो संतुलित है। दुखी वह...

item-thumbnail

अजय एंटरप्राइजेज: ग्राउटिंग इंजीनियरिंग के क्षेत्र में उभरता सितारा

0 July 23, 2020

हिंदुस्तान सदैव विश्व गुरू रहा है और यह इतिहास के पन्नों पर दर्ज है कि भारत की युवा पीढ़ी ने बड़े बड़े अविष्कार किये हैं। जरूरत है केवल उन्हें उचित अव...

item-thumbnail

स्वास्थ्य और धन के लिए  मत्स्यपालन

0 July 6, 2020

मछली प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों में से एक है जो न केवल स्वस्थ है बल्कि स्वादिष्ट भी है। चिकन और मटन जैसे अन्य नॉन-वेज खाद्य पदार्थों के विपरीत, मछली...

item-thumbnail

गाय और गांधीजी का दृष्टिकोण

0 January 10, 2020

कई देशों में स्वतंत्रता के लिए आंदोलन हुए। भारत में भी स्वतंत्रता के लिए बड़ा संघर्ष हुआ। लेकिन उस संघर्ष की विशेषता यह थी कि आजादी की लड़ाई के दौरान ...

item-thumbnail

आयुर्वेद : सक्षिप्त परिचय

0 April 1, 2019

इतिहास- आयुर्वेद के इतिहास का अवलोकन करने से ज्ञात होता है कि इसके ग्रंथों में आयुर्वेद की उत्पत्ति को ब्रम्हा द्वारा सृष्टि-उत्पत्ति के पूर्व माना गय...

item-thumbnail

एक थे जिन्ना एक थी रत्ती

0 December 14, 2017

पाकिस्तानी मूल के लेखक और पत्रकार तारिक फतेह ने कायद-ए-आजम कहे जाने वाले पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना पर निशाना साधते हुए उन्हें पेडोफाइल ...

1 2 3 5