item-thumbnail

आचार्य डॉ. संजय कृष्ण सलिल विलक्षण कथावाचक और भक्ति सम्राट

0 February 20, 2019

भारत की संस्कृति में ऐसे अनेक महापुरुष संत, ऋषि एवं कथावाचक हैं जो जनता के मन में अध्यात्म एवं धर्म के प्रति आकर्षण जाग रहे हैं। अध्यात्म ही एक ऐसा तत...

item-thumbnail

श्री चन्द्रप्रभ सागरजी महाराज : आध्यात्मिक एवं नैतिक क्रांति का शंखनाद

0 February 10, 2019

भारत अध्यात्म की अनूठी एवं विलक्षण धरा है, उसकी तेजस्विता एवं उसके गौरव की स्थापना के लिये अनेक संत-मनीषी महापुरुषों ने अपनी साधना, अपने त्याग, अपने क...

item-thumbnail

डॉ. साध्वी विश्वेश्वरीदेवीजी : भारतीय संस्कृति और हिन्दू संस्कारों की संवाहक

0 January 27, 2019

पूज्य साध्वी डॉ. विश्वेश्वरीदेवीजी का जन्म 13 दिसंबर, नवमी तिथि के दिन डबरा-ग्वालियर (मध्य प्रदेश) में एक सद्ब्राह्मण परिवार में पिता पंडित श्री हरिशं...

item-thumbnail

योगगुरु भारत भूषणजी : योग से शांति का सिंहनाद

0 January 10, 2019

भारत धर्मप्रधान देश है। यहां समय-समय पर अनेक महापुरूषों ने धर्मक्रांति का स्वर बुलंद किया। भगवान महावीर और बुद्ध ने धर्म के क्षेत्र में जाति के आधार प...

item-thumbnail

आचार्य श्री कीर्तियशसूरिजी महाराज: जैन धर्म और संस्कृति के अभिनव उन्मेष

0 January 5, 2019

भारत की संस्कृति को समृद्ध एवं सशक्त बनाने में यहां की संत परम्परा के अनेक धर्मगुरूओं, आचार्यों एवं संतों का अपूर्व योगदान रहा है। जिनमें जैन आचार्यों...

item-thumbnail

शांतिदूत आचार्य डॉ. लोकेश मुनि: विश्व-नवरचना के महान प्रयोक्ता

0 December 20, 2018

भारत के अध्यात्म क्षितिज पर जैन धर्म, दर्शन एवं संस्कृति का विशेष प्रभाव है। लेकिन इस प्रभाव को विश्व क्षितिज पर पहुंचाने का अनूठा कार्य कुछेक मुनियों...

item-thumbnail

ब्रह्माकुमारी शिवानी: आध्यात्मिक ज्ञान की भागीरथी

0 March 9, 2018

संसार में सैकड़ों धार्मिक संस्थान, परम्पराएं, विचारधाराएं प्रचलित हैं। लेकिन प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय विश्व का एकमात्र ऐसा संस्था...

item-thumbnail

मुनि पुलक सागरजी: तेजस्विता और तपस्विता के शिखर पुरुष

0 February 22, 2018

आज का मानव व्रत की संस्कृति को भूलकर बम की संस्कृति में जी रहा है। आदमी कहीं भी सुरक्षित नहीं है। समाज की धरती पर मनुष्य ने जब-जब विषमता के बीज बोये, ...

item-thumbnail

स्वामी कर्मवीर जी महाराज: योग एवं आयुर्वेद के  प्रयोक्ता एवं प्रवक्ता संत

0 January 25, 2018

भारतभूमि अनादिकाल से आयुर्वेद, वेद एवं योग के लिए विख्यात रही है। यहां का कण-कण, अणु-अणु न जाने कितने योगियों और साधकों की योगसाधना से आप्लावित हुआ है...

item-thumbnail

पूज्य गुरुजी पंडित श्रीकांत शर्मा : अलौकिक कथावाचक और भक्ति सम्राट

0 January 14, 2018

भारतीय संस्कृति एवं जीवनशैली में ईश्वर भक्ति एवं आस्था का महत्वपूर्ण स्थान है। हर व्यक्ति को ईश्वर से साक्षात्कार कराने में या स्वयं से स्वयं का साक्ष...

1 2 3 5